Gobar dhan Yojana 2023|गोबर धन योजना ,आंनलाइन रजिस्टेशन, (एप्लीकेशन स्टेटस)

5/5 - (5 votes)
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

(Gobardhan Yojana in Hindi) (Gobardhan Yojana online registration) गोबर धन योजना क्या है/ गोवर्धन योजना के उद्देश्य/ पात्रता /दस्तावेज /लाभ एवं विशेषताएं/ प्लांट लगाने का साइज /आवेदन कैसे करें (Objective, Eligibility, Document, Features ,plant size)


भारत सरकार की यह योजना जिसकी घोषणा फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली जी के द्वारा 1 फरवरी 2018 को कर दिया गया था जिसे अब केंद्र सरकार द्वारा सुचारू रूप से चलाया जाएगा गोवर्धन योजना 2023 के अंतर्गत ग्रामीण किसानों के माध्यम से गाय से प्राप्त मल मूत्र एवं ठोस पदार्थ जैसे गोबर मूत्र भूसा एवं पत्ते पोर्टफोलियो आदि को एकत्रित करा कर उचित मूल्य में खरीदा जाएगा एवं इसे कंपोस्ट बायोगैस एवं बायो सीएनजी के रूप में संशोधित किया जाएगा इस योजना के माध्यम से सरकार ग्रामीणों के लिए बहुत ही सुनहरा अवसर लाई है एवं साथ ही गौ सेवादारों के लिए खुशखबरी है साथियों Gobar-dhan Yojana 2023 योजना की संपूर्ण जानकारी के लिए हमारे इस लेख के माध्यम से जाने कि आप इस योजना में आवेदन कैसे करें पात्रता क्या है आवश्यक दस्तावेज सारी जानकारी प्राप्त करें जिससे आप इस योजना का लाभ उठा सकें

Pm Gobardhan Yojana 2023
Gobar dhan Yojana Online Registration

Table of Contents

Gobar dhan Yojana (गोबर धन योजना 2023),आंनलाइन रजिस्टेशन (Highlight tebal)

योजना का नाम गोबर धन योजना
किस ने लॉन्च कियाभारत सरकार द्वारा
लाभार्थीभारत के नागरिक
उद्देश्य गौ धन का उपयोग करना
साल 2023
अधिकारी वेबसाइटhttps://sbm.gov.in/.gobardhan
/SL.R M-Aboutus.aspx
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन

गोबरधन योजना क्या हैं(Gobar dhan Yojana 2023)

दोस्तों गोबर धन योजना का पूरा नाम गैल्वनाइजिंग ऑर्गेनिक बायो एग्रो रिसोर्सेज धन योजना 2023 रखा गया है, केंद्र सरकार की इस योजना के अनुसार जिले के अंदर प्रत्येक 1 गांव का चयन किया जाएगा और क्लस्टर स्थापित किया जाएगा। इस प्रकार लगभग 700 क्लस्टर स्थापित किए जाएंगे गोवर्धन योजना 2023 के अनुसार किसानों को आर्थिक लाभ के साथ संसाधनो का लाभ मुहैया कराया जाएगा, इन सभी के साथ गांव की स्वच्छता का उद्देश्य पूरा हो सकेगा, सरकार की यह कल्याणकारी योजना को सुचारू रूप से चलाने के लिए केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार 60% एवं 40% के अनुपात में फंड जमा कराएगी, इस योजना का लाभ उठाने के लिए ग्रामीण किसान नागरिक को अधिकारीक वेबसाइट पर अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा आवेदन की प्रक्रिया को फॉलो करके आप इस योजना का लाभ उठा सकेंगे, इस योजना की संपूर्ण जानकारी के लिए इस लेख को ध्यान से पढ़ें

गोबर धन योजना का उद्देश्य (Gobardhan Yojana objective)

केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही गोबर धन योजना 2023 ,जिसके अंतर्गत सरकार ने स्वच्छता के सबसे बड़े मुद्दे पर प्रकाश डाला है। दोस्तों हम यह भली-भांति जानते हैं और ऐसे गांव से परिचित हैं एवं हम यह भी जानते हैं कि भारत में पशुओं की संख्या काफी ज्यादा है, जिन से प्राप्त होने वाले गोबर, खेतों से भूसे एवं पत्ते आदि घर के बाहर, गौशालाओं के बाहर जैसे तैसे फेंक दिया जाता है जिस कारण गांव में प्रवेश करते ही दुर्गंध का माहौल बना रहता है एवं अस्वच्छता फैली रहती है इसी अस्वच्छता को दूर करने के लिए केंद्र सरकार ने गोबर धन योजना 2023 का शुभारंभ किया है जिसके अंतर्गत, जैविक खाद ,बायोगैस बायो, सीएनजी गैस आदि के उत्पादन के लिए गांव में ग्रामीणों की सहायता से गोबर मल मूत्र एवं ठोस अपशिष्ट का एकत्रीकरण किया जाएगा, एवं गांव में क्लस्टर बनाकर मवेशियों से उत्पन्न गोबर एवं ठोस अपशिष्ट का संग्रहण किया जाएगा, इन अपशिष्ट पदार्थों से बायोगैस एवं सीएनजी गैस में परिवर्तित किया जाएगा, जिससे गांव में स्वच्छता एवं किसानों की आय में बढ़ोतरी करना ही इस योजना का उद्देश्य है।

Gobardhan yojana 2023 का सबसे बड़ा लाभ महिलाओं को खाना बनाने में इंधन के रूप में काम आएगा साथ ही सीएनजी का उपयोग बिजली के लिए आदि मोटर व्हीकल के लिए उपयोगी होगा सरकार की इस योजना को भारत स्वच्छ मिशन योजना जोड़ा जा रहा है इस योजना से किसानों की आय में वृद्धि होगी एवं गांव स्वच्छ बन सकेगा इसी उद्देश्य पर सरकार कार्यरत हैं।

गोबर धन योजना के तहत 500 नए कचरे से संपदा निर्माण करने वाले संयंत्र की स्थापना

गोवर्धन योजना के अंतर्गत केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने 1 फरवरी 2023 को वित्तीय वर्ष 2023- 24 के बजट की घोषणा की थी, इस बजट के दौरान वित्त मंत्री द्वारा यह बताया गया कि केंद्र सरकार संसाधनों के महत्वपूर्ण उपयोग वाली अर्थव्यवस्था की नींव रखने जा रही है, जिसमें कचरे से संपदा निर्माण करने वाले 500 संयंत्रों की स्थापना की जाएगी इन संयंत्रों में शहरी क्षेत्रों में 75 संयंत्रों तथा और संयंत्रों सहित 200 बायोगैस संयंत्र को शामिल किया जाएगा, इसके साथ 300 समुदाय कलस्टर आधारित संयंत्र को भी सम्मिलित किया जाएगा, सरकार के आगे की सोच के हिसाब से ₹10 करोड का निवेश किया जाएगा। जिससे कि प्रत्येक राज्य में इस योजना को सुचारू रूप से चलाया जा सके।

गोवर्धन योजना के स्टेक होल्डर

  • डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च एंड एजुकेशन
  • डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर कोऑपरेशन एंड फार्मर्स वेलफेयर
  • मिनिस्ट्री ऑफ न्यू एंड रिन्यूएबल एनर्जी
  • डिपार्टमेंट ऑफ रूरल डेवलपमेंट
  • मिनिस्ट्री ऑफ पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस
  • डिपार्टमेंट ऑफ ड्रिंकिंग वॉटर एंड सैनिटेशन
  • डिपार्टमेंट ऑफ एनिमल हसबेंडरी एंड डेरिंग

गोबर धन योजना का जनवरी अपडेट(Gobar dhan Yojana January update)

गोबर धन योजना 2023 से हम यह जानते हैं कि गौ धन का सदुपयोग करके इनकम का सोर्स बनाना इस योजना का कार्य है, इसलिए गोबर धन योजना के अंतर्गत शाहजहांपुर में 90 मीटर टन क्षमता का प्लांट स्थापित किया जाएगा, एवं आसपास के किसानों के माध्यम से गोबर की खरीदारी की जाएगी एवं प्लांट तक पहुंचाया जाएगा सन् 2018 में पीएम मोदी जी के द्वारा मन की बात में किसानों को यह आवाहन किया गया था, तब से इस योजना को आगे बढ़ाने के लिए कार्य किया जा रहा है, इस योजना के अंतर्गत बताया गया कि गोबर से बनने वाली मीथेन गैस को सीएनजी गैस में परिवर्तित किया जाएगा जिसका उपयोग इंधन के रूप में किया जाएगा एवं गोबर धन योजना की निगरानी राज्य स्तर पर मुख्य सचिव की अध्यक्षता पर स्थापित किए गए संगठनों द्वारा किया जाएगा।

Gobar-dhan Yojana 2023 योजना के अंतर्गत प्राप्त हुए गोबर को डीएम की अध्यक्षता में जिला स्तर पर बेचा जाएगा गोबरधन योजना 2023 का संचालन पंचायती राज निदेशालय द्वारा किया जाएगा, पंचायती राज निदेशालय को ही गोवर्धन योजना की नोडल एजेंसी होगी, इस योजना की माध्यम से किसानों की आय में वृद्धि होगी इससे उत्पन्न बायोगैस से एवं इंधन से खाना बनाया जा सकेगा एवं ईंधन का उपयोग किया जा सकेगा इस योजना के कारण स्वच्छता के क्षेत्र में सरकार का यह कदम कारीगर सिद्ध होगा।

गैल्वनाइसिंग ऑर्गेनिक बायो एग्रो रिसोर्सेस धन योजना के लाभ (Gobardhan Yojana benefits)

  • गोवर्धन योजना के अंतर्गत किसान एवं अन्य माध्यमों से गाय के मल मूत्र एवं ठोस पदार्थों में खेतों से उपलब्ध भूसा एवं पत्ते का उपयोग कंपोस्ट, बायोगैस एवं सीएनजी गैस बनाने में किया जाएगा।
  • सरकार की इस योजना का लाभ मुख्य रूप से ग्रामीणों को प्राप्त होगा
  • देश में इस योजना के चलने से देश में प्रदूषण कम होगा एवं किसानों की कमाई मे बढ़ोतरी हो जाएगी।
  • इस योजना के अनुसार खेतों से उत्पन्न ठोस अपशिष्ट को उचित दाम पर खरीद कर इसे बायोगैस में परिवर्तित किया जाएगा।
  • केंद्र सरकार ने किसानों की आय दोगुनी करने के लिए गोबर धन योजना 2023 का शुभारंभ किया है, इस योजना के तहत ग्रामीण वासियों के लिए सरकार ऑनलाइन पोर्टल पर जाकर पंजीकरण करवाना होगा।
  • इस योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में बायोगैस प्लांट की स्थापना व्यक्तिगत समुदाय स्वयं सहायता समूह गौशाला आदि एनजीओ के नाम पर स्थापित किए जा सकते हैं

गोवर्धन योजना की विशेषताएं (Gobardhan Yojana Features)

  • ग्रामीण किसान अपने खेतों में इस ठोस कचरे एवं गोबर का उपयोग कर सकते हैं इसे खाद उर्वरक बायोगैस और जैव ईंधन के रूप में भी काम कर सकते हैं
  • केंद्र सरकार इस योजना के तहत गांव में विभिन्न स्वास्थ्य एवं कल्याण केंद्र खोलने ग्रामीण व्यापार केंद्रों के लिए बुनियादी ढांचे मैं सुधार करना गांव एवं शहर के बीच अच्छे संबंध स्थापित करना एवं उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए शिक्षा केंद्रों स्थापित करने के बारे में सरकार सोच रही है।
  • केंद्र सरकार की इस योजना को चलाने से ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता में सुधार होगी जिससे बीमारियां कम हो सकेंगी पशुओं और अन्य प्रकार के जैविक अपशिष्ट ओ से आय में बढ़ोतरी एवं एवं ऊर्जा का सदुपयोग होगा।
  • इस योजना के अनुसार सरकार ने 115 जिलों का चयन किया है जिसमें सामाजिक सेवाओं में निवेश किया जाएगा। और उन्हें सफल एवं रोल मॉडल के रूप में विकसित किया जाएगा।

गोवर्धन योजना के डिस्ट्रिक्ट प्लान (Gobardhan Yojana district plan)

  • गोवर्धन योजना के अंतर्गत प्रत्येक जिले में एक मॉडल परियोजना होनी चाहिए
  • इस योजना के अनुसार गौ बायोगैस प्लांट को गौशाला सब्जी मंडी संस्थान धार्मिक स्थल फैक्ट्री आदि के पास बनाया जा सकता है जहां पर गोबर की आवश्यक मात्रा मिल सके।
  • सरकार की इस योजना में बायोगैस प्लांट घरों में भी लगाया जा सकेगा जहां पशुओं की संख्या ज्यादा है।
  • इसका लाभ पहाड़ी क्षेत्रों के नागरिक जहां गोबर उपलब्ध हो पहाड़ी क्षेत्रों में भी बायोगैस प्लांट लगाया जा सकता है।

गोवर्धन योजना का कार्यान्वयन

  • इस योजना में ग्राम पंचायत द्वारा इंडिविजुअल बायोगैस प्लांट ऐसे घर में स्थापित किया जा सकेगा जहां पांच से ज्यादा गाय हो।
  • बायोगैस प्लांट का घरों के लिए साइज 1-3m3 का अनुमान किया गया है।
  • इस योजना के तहत किसी ग्राम पंचायत में यदि गायों की संख्या अधिक है तो सामान्य तौर पर बायोगैस प्लांट का साइज 4-10m3 का बनाया जाएगा।
  • प्रत्येक जिले में इस योजना का कार्यान्वयन एक एजेंसी के माध्यम से किया जाएगा।
  • इस योजना में कार्य करने वाले एजेंसीज के पास 3 साल का अनुभव सर्टिफिकेट होना अनिवार्य है।
  • केंद्र सरकार की इस योजना की निगरानी डीडब्ल्यूएसडी जिले के स्तर पर की जाएगी।
  • इस योजना के तहत लगाए गए पावर प्लांट की निगरानी प्रत्येक 4 महीने के अंदर की जाएगी।
  • निगरानी करने की रिपोर्ट नेशनल आईएमआईएस की पोर्टल पर की जाएगी।
  • इस योजना के तहत चलाए जा रहे हैं सभी प्रोजेक्ट का प्रत्येक वर्ष ऑडिट किया जाएगा

बायोगैस प्लांट के लिए उचित स्थान का चयन

  • सरकार की इस योजना में पावर प्लांट की स्थापना भूमिगत की जाएगी जिससे कि इसके गैस होल्डर में किसी प्रकार की दरार ना सके।
  • गैस प्लांट को खुली जगहों पर स्थापित किया जाएगा
  • गैस प्लांट के आस-पास कोई पेड़ पौधे नहीं होने चाहिए
  • इस प्लांट को रसोईघर के पास या गौशाला आदि पर लगाने का प्रयास किया जाएगा।
  • इस योजना के तहत लगाए जाने वाले बायोगैस प्लांट को घर के नीवं से 2 मीटर की दूरी पर स्थापित किया जाएगा जिससे कि घर की नींव पर कोई प्रभाव ना पड़े।
  • लगाए जाने वाले इस बायोगैस प्लांट को ऐसी जगह लगाई जाएगी जहां आसपास पानी ना हो।

गोवर्धन योजना बायोगैस प्लांट साइज

बायोगैस प्लांट की कैपेसिटीपशुओं की संख्यागोबर की मात्रा (kg)खाना बनाने के लिए व्यक्तियों की संख्या
1.2-3252-3
2.3-4504-5
3.5-6757-8
4.
5.
7-8
10-12
100
150
10-11
11-16

गोबर धन योजना स्टैटिसटिक्स

आवेदन /डीपीआर प्राप्त हुआ 341
आवेदन /डीपीआर अनुमोदन
की प्रक्रिया में
198
गांव की संख्या जहां आवेदन /डीपीआर
प्राप्त हुआ
320
आवेदन /डीपीआर स्वीकृत 118
ब्लॉक द्वारा स्वीकृत आवेदन /डीपीआर 170
आवेदन डीपीआर स्वीकृत 14
गठित एसटीएससी की संख्या 23
पैनलबद्ध तकनीकी एजेंसी की
कुल संख्या
130

गेलवेनाइजिंग ऑर्गेनिक बायो एग्रो रिसोर्सेस गोवर्धन योजना के दस्तावेज और पात्रता (Gobardhan Yojana Eligibility and Document)

(1). इसी योजना की पात्रता हेतु भारत का नागरिक एवं ग्रामीण होना अनिवार्य है तब आप इस योजना के पात्र होंगे।

(2). भारत के किसानों को इस योजना का लाभ मिल सकेगा एवं किसान इस योजना के पात्र होंगे

  • सर्वप्रथम आधार कार्ड इस योजना से जुड़ने के लिए आपकी वास्तविक पहचान हेतु ।
  • आप का निवास प्रमाण पत्र इस योजना का लाभ उठाने वाले के राज्य एवं क्षेत्र की पहचान हेतु।
  • मोबाइल नंबर इस योजना से संबंधित सूचना आदि प्रदान करने हेतु आपको संलग्न करना होगा।
  • आपका ईमेल आईडी योजना से संबंधित जानकारी प्राप्त करने हेतु।
  • आपका पासपोर्ट साइज फोटो इस योजना का लाभ उठा रहे आवेदकों का चेहरे से पहचान हेतु , फोटो संलग्न कराना होगा।

गोबर धन योजना में ऑनलाइन आवेदन कैसे करें (Gobardhan Yojana Online Apply)

केंद्र सरकार द्वारा ग्रामीणों के लिए निकाली गई यह योजना मे सरकार ने अधिकारिक वेबसाइट उपलब्ध कराई गई है एवं इस लेख के माध्यम से आवेदन करने की संपूर्ण प्रक्रिया बताइए बताई गई है इसे फॉलो करके आप आवेदन कर सकेंगे

  • वेबसाइट पर जाने के पश्चात आपके सामने होम पेज खोलकर आ जाएगा
  • इस पेज पर आपको रजिस्ट्रेशन का विकल्प दिखाई देगा इस विकल्प का चयन करते ही, आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा।
  • खुले हुए पेज पर आपको एप्लीकेशन फॉर्म दिखाई देगा इस फोन में पूछी गई सारी जानकारी जैसे- पता, रजिस्ट्रेशन की जानकारी, नाम, स्टेट आदि, पूछी गई सारी जानकारी ध्यान पूर्वक पढ़ने के पश्चात भरना होगा।
  • अब तक फॉर्म की सारी प्रक्रिया पूर्ण होने के पश्चात नीचे दिए गए सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा क्लिक करने के पश्चात ही आप का रजिस्ट्रेशन फॉर्म कंप्लीट हो जाएगा।
  • इसके पश्चात आपको रजिस्ट्रेशन नंबर प्राप्त हो जाएगा, इस रजिस्ट्रेशन नंबर को भविष्य में पढ़ने वाली आवश्यकता के लिए संभाल कर रखना होगा।

गोवर्धन योजना लॉगिन कैसे करें

  • इस योजना में लॉगिन करने के लिए आपको सर्वप्रथम सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा इस वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होमपेज खुलकर आ जाएगा।
  • इस होम पेज पर आपको लॉगइन का लिंक दिखाई देगा इस पर क्लिक करना है इस लिंक पर क्लिक करने के पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा।
  • नए पेज पर आपको लॉगइन फॉर्म दिखाई देगा इस पर अपना यूजर नेम और पासवर्ड भरना होगा और साथ ही कैप्चा कोड भी भरना होगा इसके पश्चात आप लॉगिन हो जाएंगे और इस प्रक्रिया से आप लोग इन कर सकेंगे।

यूजर मैन्यअल डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • इस प्रक्रिया की शुरुआत के लिए आपको पहले पेयजल और स्वच्छता विभाग के आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने साइट का होम पेज खोलकर आ जाएगा।
  • आपके सामने खुले हुए टैब पर यूजर मैनुअल के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • यूजर मैनुअल पर क्लिक करते ही अब आपके सामने यूजर मैनुअल खुल कर आ जाएगा।
  • अब आप इसे डाउनलोड कर सकेंगे और प्रिंट भी कर सकते हैं।

रिसोर्सेज से संबंधित जानकारी प्राप्त करने की प्रक्रिया

  • इस प्रक्रिया के लिए सर्वप्रथम आपको गोवर्धन योजना अधिकारी वेबसाइट पर जाना होग
  • वेबसाइट पर जाने के पश्चात आपके सामने इसका होम पेज खोलकर आ जाएगा
  • होम पेज पर दिख रहे रिसोर्सेज के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुलकर आ जाएगा।
  • इस पेज पर आपको अपने लेवल का चयन करना होगा
  • इसके पश्चात आपके द्वारा पूछी गई जानकारी आपके स्क्रीन पर होगी

सपोर्ट एजेंसी से संबंधित जानकारी प्राप्त करने की प्रक्रिया

  • इस प्रक्रिया की शुरुआत करने के लिए सर्वप्रथम आपको इस योजना की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने साइड का होम पेज खुलकर आ जाएगा।
  • होम पेज के खुलते ही आपके सामने इंफॉर्मेशन का ऑप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक कर देना है।
  • इसके पश्चात आपको सपोर्ट एजेंसी के ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।
  • क्लिक करते ही आपके सामने एक नया पेज खुल कर आ जाएगा।
  • इस पेज पर आपको सपोर्ट एजेंसी से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो जाएगी

टेक्निकल एजेंसी से संबंधित जानकारी प्राप्त करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको गोबर धन योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • उसके पश्चात आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुलकर आ जाएगा।
  • होम पेज पर आपको इंफॉर्मेशन का ऑप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक कर देना है।
  • इस प्रक्रिया के पश्चात आपको टेक्निकल एजेंसी के विकल्प पर क्लिक कर देना हैं।
  • इसके पश्चात आपको अपने राज्य का चयन करना है।
  • यहां तक की प्रक्रिया पूर्ण होने के पश्चात

फंडिंग सोर्सेस से संबंधित जानकारी प्राप्त करने की प्रक्रिया

  • इस प्रक्रिया की शुरुआत के लिए आपको पहले योजना की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाते ही इसका होम पेज खोलकर आ जाएगा।
  • अब होम पेज पर आपको इंफॉर्मेशन का ऑप्शन दिखाई देगा।
  • इसको क्लिक करने के पश्चात फंडिंग सोर्सेस के ऑप्शन पर क्लिक कर देना है
  • इसके पश्चात आपको क्लिक टो व्यू के ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • इसके पश्चात आपके द्वारा पूछी गई जानकारी आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर आ जाएगी।

पब्लिसिटी मटेरियल डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम सरकार की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा इस वेबसाइट पर जाते ही।
  • इसका होमपेज खुलकर आ जाएगा होम पेज के खुलते ही
  • होम पेज पर इंफॉर्मेशन का ऑप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक कर देना।
  • इसके पश्चात आप की आवश्यकता अनुसार जिस जानकारी को जानना चाहते हैं।
  • पब्लिसिटी मटेरियल की जानकारी आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर मिल जाएगी।

गोबर धन योजना संपर्क वितरण देखने की प्रक्रिया

  • इस प्रक्रिया के शुरुआत के लिए सर्वप्रथम आपको योजना की अधिकारीक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने योजना का होम पेज खुल जाएगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने कांटेक्ट अस का ऑप्शन दिखाई देगा। इस पर क्लिक करना है।
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खोलकर आ जाएगा
  • इस सारी प्रक्रिया को पूर्ण करते हुए आप इस योजना से संबंधित संपर्क विवरण को देख सकते हैं।

इन्हें भी जाने

FAQ:-

Q. Gobardhan yojana क्या है?

Ans- दोस्तों गोबर धन योजना का पूरा नाम गैल्वनाइजिंग ऑर्गेनिक बायो एग्रो रिसोर्सेज धन योजना 2023 है। इसके अंतर्गत गाय के गोबर, खेतों से भूसे एवं पत्ते आदि घर के बाहर, गौशालाओं के बाहर जैसे तैसे फेंक दिया जाता है जिस कारण गांव में प्रवेश करते ही दुर्गंध का माहौल बना रहता है एवं अस्वच्छता फैली रहती है इसी अस्वच्छता को दूर करने के लिए केंद्र सरकार ने गोबर धन योजना 2023 का शुभारंभ किया है इस योजना के कारण किसानों की आय में बढ़ोतरी होगी एवं गांव की महिलाओं को खाना बनाने के लिए बायोगैस एवं आदि उपयोग के लिए सीएनजी गैस का लाभ मिल सकेगा, आदि बहुत से लाभ इस योजना के अंतर्गत प्राप्त होंगे।

Q. गोबर गैस बनने में कितना समय लगता है?

Ans- गोबर गैस को बनने में आमतौर पर 10 दिन से 30 दिन का समय लगता है इन दिनों की शुरुआत में 50% गोबर और 50% पानी मिलाया जाता है तत्पश्चात जब इस में ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू हो जाती है मीथेन गैस निकलने लगती है किस गैस को बायोगैस एवं सीएनजी में परिवर्तित कर लिया जाता है इस प्लांट को तैयार करने के लिए किसी विभाग कार्यालय में आवेदन के दौरान इसे 5 से 7 दिन के भीतर तैयार कर दिया जाता है।

Q. गोबर गैस प्लांट लगाने में कितना खर्च आता है?

Ans- जी हां दोस्तों आपकी आवश्यकता अनुसार छोटे गैस प्लांट में कम खर्चा एवं बड़े गोबर गैस प्लांट मे अधिक खर्चा लगता है, जैसे छोटे गोबर गैस प्लांट में ₹10 हजार तक का लागत लगता है वही बड़े गोबर गैस प्लांट को तैयार करने में ₹50 हजार से ₹1लाख तक का खर्च आता है।

Q.गोबर धन योजना किसके द्वारा चलाया जा रहा है?

Ans- भारत सरकार की यह योजना जिसकी घोषणा फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली जी के द्वारा 1 फरवरी 2018 को कर दिया गया था जिसे अब केंद्र सरकार द्वारा सुचारू रूप से चलाया जाएगा गोवर्धन योजना 2023 के अंतर्गत।

Q. क्या भारत गाय के गोबर का निर्यात करता है?

Ans- जी हां दोस्तों भारत गाय से उत्पन्न गोबर का सर्वाधिक निर्यात मालद्वीप संयुक्त राज्य अमेरिका और सिंगापुर को करता है भारत देश गाय के गोबर का सबसे बड़ा निर्यातक है गाय के गोबर के सिर्फ तीन निर्यातक हैं पहला 973 शिपमेंट के साथ भारत है दूसरा 127 शिपमेंट के साथ वियतनाम है तीसरा 31 शिपमेंट के साथ चीर है जो कि तीसरे स्थान पर है।

Q. ऑनलाइन गोबर कैसे बेचे?

Ans- ऑनलाइन गोबर बेचने के लिए आप या तो अपनी खुद की वेबसाइट बनाकर उसमें डिटेल डाल कर बेच सकते हैं, या फिर आप किसी पॉपुलर वेबसाइट जैसे- ईबे शॉपक्लूज ,वेदिक गिफ्ट शॉप ,ऐमेज़ॉन आदि में सेलर बंद कर बेच सकते हैं।

Q. गोबरधन योजना कब शुरू हुई थी?

Ans- भारत के वित्त मंत्री अरुण जेटली जी के द्वारा बजट पेश करने के दौरान 1 फरवरी 2018 को गोबरधन योजना की शुरुआत की गई थी।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment